NEWS

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा कन्या भ्रूण हत्या के विरुद्ध रैली

September 26, 2017

श्री आशुतोष महाराज जी के दिव्य सान्निध्य में संचालित दिव्य ज्योति जागृति संस्थान का लिंग समानता प्रकल्प - संतुलन, देश भर में कन्या भ्रूण हत्या की रोकथाम तथा लिंग समानता के लिए कार्यरत है. इसके अंतर्गत महिलाओं को उनके साथ हो रहे अत्याचार एवं अपराधों के प्रति जागरूक कर, सशक्त बनाया जा रहा हैं. इस अभियान का प्रयोजन समाज की मानसिकता में पूर्ण रूप से परिवर्तन लाना है. उद्देश्य यह है कि मनुष्य आध्यात्मिक रूप से जागरूक हो. बहुसंख्यक प्रचारकों व कार्यकर्ताओं के माध्यम से संस्थान जन जन तक आध्यात्मिक स्तर पर आवश्यक जागरूकता का महत्व पहुँचाने का संकल्प रखता है. जिससे केवल कन्या भ्रूण हत्या ही नही, बल्कि महिलाओं के खिलाफ अन्य अपराधों जैसे महिला तस्करी, वधु व्यापार, बाल विवाह, उत्पीड़न का भी पूर्ण रूप से अंत हो जाए. समाज कल्याण की ऐसी ही भावना से दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान, शाखा – अहमदाबाद द्वारा दिनांक - 10 सितम्बर 2017, सांय 4:00 से 6:00 बजे तक, जागरूकता रैली का आयोजन किया गया.

रैली का शुभारम्भ कथा स्थल सृष्टि बंगलो के सामने, भक्तेश्वर महादेव के पास, जनतानगर से किया गया. यह यात्रा उत्कर्ष, समरस, सुदर्शन, शॉपिंग मोल, श्याम बंगलो-1, घनश्याम डेरी, गुजरात हाऊसिंग, गायत्री नगर, बी एस स्कुल, न्यू सीजी रोड, गुरुकृपा सोसायटी, विवेकानंद नगर, पद्मप्रभु नगर, भगवती नगर और जनतानगर से होते हुए संस्थान द्वारा आयोजित श्रीमद भागवत कथा के स्थल तक पहुंची. रैली में ब्रह्मज्ञानी साधिकाओ द्वारा समाज में व्याप्त बुराइयों एवं सामाजिक समस्याओ जैसे - ग्लोबल वार्मिंग, गो हत्या, नारी के प्रति बढ़ते अत्याचार, नशाखोरी इत्यादि समस्याओ के विरुद्ध आवाज को बुलंद किया एवं लोगों को संस्थान द्वारा संचालित सामाजिक प्रकल्पों के विषय में अवगत कराया गया.

दिव्य ज्योति जागृति संस्थान एक सामाजिक आध्यात्मिक संस्था है जिसका ध्येय है - आध्यात्मिक जागृति द्वारा विश्व में शान्ति. आध्यात्मिकता द्वारा महिलाओं के सशक्तिकरण व लिंग संतुलन की स्थापना के अतिरिक्त, संस्थान द्वारा नशा मुक्ति, अभावग्रस्त बच्चों की शिक्षार्थ, पर्यावरण संरक्षण हेतु, गो संरक्षण, संवर्धन एवं नस्ल सुधार, समाज के सम्पूर्ण स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन तथा नेत्रहीनों, अपाहिजों के सशक्तिकरण के साथ साथ जेल के कैदी बंधुओं के लिए भी समाज कल्याण के प्रकल्प चलाये जा रहे हैं.