वैष्णो-देवी की अंतर्यात्रा!

अवतारों और महापुरुषों द्वारा रचित तीर्थ हमें भीतरी परमानंद से जोड़ने के लिए बनाए गए थे। ये स्थल मार्गदर्शक नक्शे हैं। इनमें आध्यात्मिक यात्रा के लिए प्रतीकात्मक संकेत या इशारे छिपे हुए हैं। इनकी लकीरों या इशारों को पकड़कर अगर हम एक सच्ची आध्यात्मिक यात्रा करें, तो मनुष्य जीवन सार्थक हो सकता है। हर बार के नवरात्रो भी हमें माँ वैष्णो की यही आंतरिक यात्रा करने की प्रेरणा देते हैं। इसी आत्मतीर्थ पर पहुँचने के लिए माता रानी का बुलावा भी आता है।

Read More
देवी माँ के दिव्य स्वरूप का दर्शन कर, सच्ची दुर्गा पूजा मनाएँ

माँ दुर्गा के असली दर्शन व उनका वंदन न तो बाहरी जगत में और न ही कंप्यूटर स्क्रीन पर होता है। यह तो अंतर्जगत में उतरकर किया जाता है। ऐसा हमारे समस्त धर्म-ग्रंथ कहते हैं। श्रीमद्‌ देवीभागवत के सप्तम स्कंध में भी यह वर्णित है- ‘ब्रह्म शुभ्र, परम प्रकाश ज्योति स्वरूप है, जो हृदयगुहा में निवास करता है। आत्मज्ञान को प्राप्त करने वाले ज्ञानीजन ही वास्तव में उसे जान पाते हैं।‘

Read More
Resigning to God's Will

The old grannies and grandpas can often be heard saying that they have resigned everything to God's will. But, one would rarely find any youth saying so. Why does this variation occur between the youth and the old ones?

Read More
Push Off the Cliff!

Interdependence among human beings is the intrinsic nature of a social system. Sometimes, individuals also get addicted to some things that start influencing their everyday behavioural pattern. These dependencies can be satisfactory until they harm the growth or development of those individuals. Suc…

Read More
भक्ति, शक्ति और मुक्ति प्राप्त करने की युक्ति सिखाते हैं श्री गणपति के अनन्य स्वरूप!

वह एक ही सत्ता है, जो सभी प्राणियों की अंतरात्मा में विराजमान है| वही सत्ता अपने एक स्वरूप को बहुत प्रकार का बनाकर अ…

Read More
Poison is Poison

People who fondly take alcohol keep giving fake excuses and logics to justify themselves. Let's look at their logics and reasons from the lens of wisdom, and ascertain whether these people are really logical, intellectual, and rational or not!

Read More
एक माउज़र और अनेक प्रयास!

जहाँ एक ओर अंग्रेजी हुकूमत साधनों से सम्पन्न थी वहीं हमारे क्रांतिकारियों के पास मात्रा मुट्ठी भर संसाधन थे। एक समय क्रांतिकारियों को माउजर नामक पिस्तौल की अत्यधित जरूरत महसूस होने लगी।

Read More
To My Sis… With Love!

Anchal had just received her driving license today. She was on the top of the world! The driving license was like her ticket to freedom!

Read More