Read in English

चाकण: एक बच्चे के जीवन में माँ को पहली शिक्षिका माना जाता है। बच्चों की नियमित गतिविधियों पर नज़र रखने और हर संभव तरीके से उनके जीवन को संवारने में माताओं की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण होती हैं।

My Mom, My Superhero Mother's Day Special program conducted by DJJS Santulan in Chakan area of Pune District, Western Maharashtra

हालांकि, दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के लिंग समानता व महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम - संतुलन का मानना ​​​​है कि जननी के साथ प्रकृति माँ, माँ भारती और सबसे प्रमुख माँ 'एक ब्रह्मनिष्ठ आध्यात्मिक गुरु' (गुरु माँ) का योगदान हमारे जीवन में अतुलनीय हैं। ये सब माताएं हमारा पालन-पोषण व देखभाल करती हैं, प्रेम के साथ हमें बड़ा करती हैं और हमेशा हमारी भलाई के लिए समर्पित रहती हैं।

My Mom, My Superhero Mother's Day Special program conducted by DJJS Santulan in Chakan area of Pune District, Western Maharashtra

इन तथ्यों को ध्यान में रखते हुए, संतुलन ने पूरे देश में  संस्थान की विभिन्न शाखाओं में मातृ दिवस विशेष मई माह को मातृ माह के रूप में मनाया। इसमें माँ के महत्त्व और उनके प्रति कृतज्ञ भाव दर्शाने के लिए माह भर में मातृत्व उत्सव मनाया गया।

इसी श्रृंखला में, 14 मई 2022 को महाराष्ट्र के चाकण शहर में मातृ दिवस विशेष कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस 3 घंटे के कार्यक्रम 'माँ तुम्हें प्रणाम' में 70 महिलाओं ने भाग लिया, जिसमें अधिकांशतः माताएँ और बेटियाँ सम्मिलित थी। कार्यक्रम में विभिन्न रोचक गतिविधियां शामिल थीं, जैसे कि हमारे भारतीय इतिहास में अपने बच्चे को श्रेष्ठ व्यक्तित्व के रूप में गढ़ने वाली माताओं – राजमाता जीजाबाई, महारानी मदालसा इत्यादि की जीवन गाथा पर आधारित प्रश्नोत्तरी... इत्यादि । इन माताओं द्वारा अपने बच्चों की उत्तम परवरिश से समाज के सामने कितने ही महान उदाहरण उभर कर आये।

इस बीच प्रतिभागियों द्वारा एक दिलचस्प स्किट और नृत्य नाटिका का भी प्रदर्शन से माताओं के प्रति आभार व्यक्त किया गया। इसके बाद एक विशेष वाद-विवाद द्वारा प्रतिभागियों के बीच एक चर्चा शुरू हुई कि कैसे एक बच्चे को आज उनके पालकों द्वारा पालन-पोषण किया जाना चाहिए। ताकि वे न केवल एक सफल व्यक्ति बन सकें बल्कि अपने प्रखर चरित्र से समाज को भी प्रेरित कर सकें।

कार्यक्रम को प्रभावशाली बनाने के लिए दिव्य गुरु श्री आशुतोष महाराज जी की शिष्या और चाकण के डी.जे.जे.एस. शाखा की संचालिका - साध्वी मांगल्या भारती जी और साध्वी कीर्ति भारती जी ने प्रतिभागियों को एक बच्चे के जीवन में माँ की अतुलनीय भूमिका के विषय में और सही-गलत परवरिश के विषय में प्रकाश डाला।

अंत में, माताओं और बेटियों के खूबसूरत रिश्ते को बतलाने के लिए, बेटीयों ने अपनी माताओं को धन्यवाद दिया। फोटो सेशन और सेल्फी-सेशन के माध्यम से माँ-बच्चों के बीच के अनमोल रिश्ते का सुंदरता के साथ चित्रण हुआ।

Subscribe Newsletter

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox