Read in English

भक्तों के भीतर भगवान राम के चैतन्य स्वरुप को प्रकट करने हेतु श्रीराम नवमी के पावन अवसर पर दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के मेलबर्न स्थित केंद्र द्वारा 7 अप्रैल 2024 को ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया हॉल में एक विशेष आध्यात्मिक कार्यक्रम – ‘रामस्तु भगवान स्वयं’ का आयोजन किया गया। विश्व शांति के लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु डी.जे.जे.एस ब्रह्मज्ञान और वास्तविक अध्यात्म का संदेश दुनिया के हर कोने में लेकर जा रहा है। इसी के निमित्त गुरुदेव श्री आशुतोष महाराज जी के दिव्य मार्गदर्शन में यह आयोजन हर प्राणी की चेतना में भगवान राम और राम राज्य के सिद्धांतों को स्थापित करने का एक अनूठा प्रयास रहा।

Ramastu Bhagwan Swayam a sublime spiritual event organized on the occasion of Shri Ram Navami at Victoria, Australia

कार्यक्रम में डी.जे.जे.एस के ब्रह्मज्ञानी और निष्काम कार्यकर्ताओं द्वारा भगवान श्री राम के जीवन पर आधारित एक नृत्य-नाटिका का मंचन और संस्थान के विद्वत प्रचारकों - स्वामी सज्जनानंद जी एवं डॉ. सर्वेश्वर जी द्वारा ज्ञानवर्धक आध्यात्मिक प्रवचन को प्रस्तुत किया गया। “लाइफ ऑफ लॉर्ड” नामक नाटक इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए प्रस्तुत किया गया कि ईश्वर सदा ही मानवता के रक्षण हेतु एक कुशल अधिनायक के रूप में अवतार लेकर आध्यात्मिक क्रांति द्वारा विश्व में वृहद स्तर पर परिवर्तन लेकर आते हैं| यह नाटक वास्तव में उपस्थित दर्शकों के लिए आंखें खोल देने वाला था।

ईश्वर के वास्तविक स्वरूप और रामायण के रहस्य व महत्व को उजागर करते हुए प्रचारकों ने बताया कि भगवान श्रीराम केवल त्रेता युग तक सीमित कोई चरित्र भर नहीं हैं। अपितु भगवान श्रीराम के सिद्धांत और जीवन आदर्श भारत की पहचान और समग्र मानवता के लिए पारस के समान हैं| उन्होंने आगे समझाया कि भारत की संस्कृति, आराधन-पद्धतियां एवं अनुष्ठान... सब ही शाश्वत एवं सनातन अध्यात्म से उत्पन्न पूर्ण रूपेण वैज्ञानिक हैं| भारत - जिसका अर्थ है ‘प्रकाश में रत’; दिव्य ज्ञान का प्रकाश ही भारतीय संस्कृति का मूल आधार है। दिव्य ज्ञान या ब्रह्मज्ञान एक शाश्वत विज्ञान है जिसके माध्यम से एक साधक समय के पूर्ण गुरु की कृपा से, अपने भीतर ईश्वर के दिव्य स्वरुप का दर्शन करता है; श्रीराम ने त्रेता युग में ऐसे ही पूर्ण सतगुरु की भूमिका निभाई थी। आज भगवान श्रीराम की सच्ची पूजा करने और उन्हें चैतन्य रूप में अनुभव करने के लिए, हमें अपने भीतर राम तत्त्व को जागृत करने और उस शाश्वत आनंद का अनुभव करने की आवश्यकता है।

Ramastu Bhagwan Swayam a sublime spiritual event organized on the occasion of Shri Ram Navami at Victoria, Australia

संस्थान के प्रचारकों ने श्री आशुतोष महाराज जी की पूर्ण गुरु की भूमिका को उजागर करते हुए बताया कि वे किस प्रकार प्रत्येक मानव के कल्याण के लिए उस शाश्वत ब्रह्मज्ञान का प्रसार कर समाज में मूलभूत परिवर्तन लाते हुए तीव्र गति से विश्व शान्ति के लक्ष्य को साकार रहे हैं। इस कार्यक्रम में कई प्रतिष्ठित गणमान्य अतिथियों ने भाग लिया जिन्होंने डी.जे.जे.एस के विज़न को समझने में अपनी रूचि दिखाई। उन्होंने सभी क्षेत्रों में डी.जे.जे.एस के कार्यों और प्रयासों की अत्यधिक सराहना की और समाज सुधार की गतिविधियों में डी.जे.जे.एस के साथ भाग लेने के लिए उत्सुक भी हुए। कार्यक्रम का समापन सामूहिक ध्यान सत्र और प्रसाद वितरण के साथ हुआ।

कार्यक्रम में उपस्थित कुछ गणमान्य अतिथिगण थे-

  1. श्री सैम रे - संघीय संसद सदस्य, हॉक, ऑस्ट्रेलियाई संसद, कैनबरा
  2. श्री स्टीव मैकघी – सदस्य, विक्टोरियन विधान सभा, मेल्टन क्षेत्र, विक्टोरियन संसद
  3. श्री मैथ्यू हिलकारी – सदस्य, विक्टोरियन विधान सभा, प्वाइंट कुक एरिया, विक्टोरियन संसद
  4. श्री जो मैक्रेकेन – सदस्य, विक्टोरियन विधान परिषद, पश्चिमी विक्टोरिया, विक्टोरियन संसद
  5. डॉ. सुशील कुमार - भारत के महावाणिज्य दूतावास, भारत सरकार

श्री बॉब टर्नर – पार्षद, कोबर्न वार्ड, मेल्टन, मेल्टन सिटी काउंसिल

Subscribe Newsletter

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox