Read in English

भगवान श्री कृष्ण प्रतीक हैं पारलौकिक ज्ञान, सौहार्द और सार्वभौमिक भाईचारे के। उनका जीवन चरित्र आदर्श है हम सब के लिए जो हमें प्रेरित करता है एक आदर्श जीवन जीने,एवं जीवन में उचित दिशा का चुनाव करते हुए परमानंद एवं मोक्ष प्राप्ति के लिए अग्रसर होने के लिए। कृष्ण कथा एक माध्यम है भगवान श्री कृष्ण द्वारा दी शिक्षाओं का जो कि गीता एवं हमारे अन्य प्राचीन धर्म ग्रंथों में निहित है उन्हें जनसाधारण तक पहुंचाने का। गुरुदेव श्री आशुतोष महाराज जी के दिव्य सानिध्य में दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा बिलासपुर (हिमाचल प्रदेश) में 31 जनवरी से 6 फरवरी 2019 तक 7 दिवसीय श्री कृष्ण कथा का आयोजन किया गया। गुरुद्व श्री आशुतोष महाराज जी की शिष्या कथा व्यास साध्वी कालिंदी भारती जी ने अन्य शिष्य-संगीतकारों की मंडली के साथ धर्म शास्त्रों के अनुसार श्री कृष्ण कथा का सुन्दर व्याख्यान किया। इस कर्यक्रम में कई गणमान्य अतिथि एवं स्थानीय राजनेताओं ने अपनी उपस्तिथि दर्ज कराई।

Shri Krishna Katha Propound Philosophy of Real Krishna at Bilaspur, Himachal Pradesh

साध्वी जी ने कृष्ण लीलाओं के पीछे छिपे दिव्य रहस्यों का उद्घाटन किया और समझाया कि सांसारिक तृष्णाएँ एवं इन्द्रियों के वशीभूत होकर किए गए कर्म अहंकार और लालच में ही परिणित होते हैं इसलिए आवश्यकता है जीवन के वास्तविक मूल्य को समझने की जिसे भगवान श्री कृष्ण ने हमें अपनी लीलाओं के माध्यम से समझाया है। ब्रह्मज्ञान प्राप्त कर हम आध्यात्म के मार्ग पर चलते हुए अपने मन की मलिनता से मुक्त हो  आत्मोन्नति की ओर उन्मुख होते हैं।

Shri Krishna Katha Propound Philosophy of Real Krishna at Bilaspur, Himachal Pradesh

भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को दिए अपने उपदेश में स्पष्ट किया की जीवन की किसी भी समस्या का मूल कारण हमारा मन है, अतः जीवन की किसी भी समस्या, किसी भी संकट से निपटने के लिए आवश्यक है अपने मन को नियंत्रित करना जो केवल ब्रह्मज्ञान के माध्यम द्वारा ही संभव है। स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन के दिव्य चक्षु को खोल उसे ब्रह्मज्ञान प्रदान किया था।

"कृष्णम् वंदे जगद्गुरुम्" अर्थात श्री कृष्ण संपूर्ण जगत  के आध्यात्मिक गुरु हैं और वो हमें यही सन्देश देते है कि जीव को महापुरुषों के दिशा निर्देशों का पालन करने पालन करते हुए एक पूर्ण गुरु की खोज करनी चाहिए जो उसे परमात्मा से मिला दे, वास्तविक भक्ति प्रदान करें! गुरुदेव श्री आशुतोष महाराज जी एक पूर्ण संत हैं जो जन जन को इस ब्रह्मज्ञान से परिपोषित कर रहे हैं। ब्रह्मज्ञान माध्यम है हृदय के सुन्दर रूपांतरण द्वारा आत्म उन्नति की ओर उन्मुख होने और भगवान श्री कृष्ण के दिखाए मार्ग पर चलने का।

Subscribe Newsletter

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox