Read in English

भगवान के गान के रूप में प्रचलित श्रीमद भागवत कथा वास्तव में ज्ञान का अतुलित भंडार है जिसमें असंभव को भी संभव में बदलने का सामर्थ्य है। आज मानसिक शांति के लिए आकुल प्रत्येक आत्मा को धर्म एवं आध्यात्म की आवश्यकता है। "ब्रह्मज्ञान की खडग से अपने हृदय के सभी संशयों का अंत कर डालो।  अनुशासन बद्ध रहो। जागो।“

Shrimad Bhagwat Katha Aimed at Self- Realization in SBS Nagar, Punjab

भक्तों में आध्यात्म की भावना का संचार करने हेतु डीजेजेएस द्वारा पंजाब के एसबीएस नगर में 24 से 30 जून 2019 तक सात दिवसीय  श्रीमदभागवत कथा का आयोजन किया। कथाव्यास साध्वी भाग्यश्री भारती जी ने दिव्य ज्ञान पर आधारित अपने अनुभवों के माध्यम से  नवयुग आगमन की परिकल्पना को सबके समक्ष रखा।

Shrimad Bhagwat Katha Aimed at Self- Realization in SBS Nagar, Punjab

कार्यक्रम का शुभारम्भ वेद मंत्रों के उच्चारण एवं भगवान कृष्ण के श्री चरणों की पावन स्तुति के साथ हुआ। भजनों की सुमधुर श्रृंखला ने उपस्थित जनसमुदाय को आनंद एवं शांति का अनुभव कराया और उन्हें जीवन के एकमात्र लक्ष्य को समझने के लिए प्रेरित किया।

साध्वी जी ने आध्यात्म मार्ग के अपने अनुभवों एवं जीवन परिवर्तित कर देने वाले अमूल्य सूत्रों को सबके समक्ष सांझा किया। उन्होंने बताया कि एक जागृत व्यक्ति ईश्वर के अतिरिक्त कभी किसी पर निर्भर नहीं होता।

साध्वी जी ने समझाया कि श्रीमद भागवत कथा हमें प्रेरित करती है ब्रह्मज्ञान रुपी उस दिव्य कला को जानने के लिए जो भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को प्रदान की थी। ब्रह्मज्ञान के अभाव में मानव अपने ही विनाश की ओर अग्रसर है। परमात्मा से विलग आत्मा की पुकार है ब्रह्मज्ञान। अतः यदि मानव वास्तव में अपने जीवन में आनंद को प्राप्त करना चाहता है तो उसका एक मात्र उपाय, एक ब्रह्मनिष्ठ गुरु द्वारा प्रदत ब्रह्मज्ञान ही है।

इस दिव्य कथा का सभी ने पूरा आनंद उठाया एवं डीजेजेएस के कार्यकर्ताओं का इस आयोजन के लिए आभार व्यक्त किया। दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान (डीजेजेएस), गुरुदेव श्री आशुतोष महाराज जी द्वारा संस्थापित एवं संचालित एक  गैर-सरकारी, गैर-लाभकारी एवं सामाजिक-आध्यात्मिक संगठन है। 

Subscribe Newsletter

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox