Read in English

ऑनलाइन शिक्षा की उपयोगिता आज के इस आधुनिक युग में कहीं अधिक प्रासंगिक सिद्ध हुई है। कोरोना संक्रमण की व्यापकता से आज हम सभी परिचित हैं। इस महामारी ने मानव जीवन के लगभग सभी क्षेत्रों को प्रभावित किया है किन्तु शिक्षा क्षेत्र में इसके प्रतिकूल परिणाम कहीं अधिक दृष्टिगोचर हैं। लेकिन "जहाँ चाह वहाँ राह"। कई सीमाओं के बावज़ूद शिक्षकों के दृढ़संकल्प और विद्यार्थियों के उत्साह ने इस कठिन समय में भी एक सकारात्मक माहौल बनाया हुआ है। परिणामस्वरूप विद्यालय से लेकर विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं ने वैकल्पिक “ऑनलाइन अधिगम” को अपनाया है जिससे देश के अनेक छात्र लाभान्वित हो रहे हैं। किन्तु आज भी ऐसे कितने ही बच्चे हैं जो विषम परिस्थिति ही नहीं, अपितु अनुकूल परिस्तिथियों में भी शिक्षा जैसे मूलभूत अधिकारों से वंचित रह जाते हैं। ज्ञान के निर्बाध प्रसार को जन-जन तक पहुँचाने हेतु हमें शिक्षा के ऐसे समावेशी स्वरूप की बात करनी होगी जो समतामूलक समाज के निर्माण की धुरी बन सके।

Virtual Classes conducted by Manthan- Sampoorna Vikas Kendra (SVK) during the COVID -19 Pandemic

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान(DJJS) द्वारा संस्थापित एवं संचालित, मंथन-सम्पूर्ण विकास केंद्र(SVK) ऐसे ही अभावग्रस्त बच्चों को निःशुल्क एवं मूल्याधारित शिक्षा प्रदान कर बच्चों के शैक्षणिक, सामाजिक, शारीरिक एवं नैतिक अर्थात् समग्र विकास हेतु कार्यरत है। शिक्षा की यह क्रांति अब किसी कारणवश थम न पाए इसके लिए मंथन-SVK ने भी अपने सभी छात्रों के लिए ऑनलाइन शिक्षा का प्रबंध किया है ताकि शिक्षा की निरंतरता बरक़रार रहे। भौतिक दूरी की महत्वत्ता का ध्यान रखते हुए एवं शिक्षा के विभिन्न नियमों जैसे अनुशासनता, समय-पाबंधी आदि का पालन करते हुए इन कक्षाओं का आयोजन किया जा रहा है। परिचर्चा, गृहकार्य, डिजिटल-अध्ययन सामग्री उपलब्ध कराने और बच्चों के अकादमिक मूल्यांकन द्वारा शिक्षण की प्रक्रिया को गति प्रदान की जा रही है। शिक्षण को रचनात्मक व् चुनौतीपूर्ण बनाने के लिए समय-समय पर उन्हें विविध प्रकार के रोचक एवं कलात्मक प्रोजेक्ट्स भी दिए जाते हैं। विद्यार्थियों के लिए इसे अधिक संवादात्मक और प्रेरक बनाया जा सके इसके लिए भी सफल प्रयास किये जा रहे हैं।

Virtual Classes conducted by Manthan- Sampoorna Vikas Kendra (SVK) during the COVID -19 Pandemic

संक्षेप में कहें तो मंथन-SVK भारतीय शिक्षा के मुख्य उद्देश्य-व्यक्ति एवं चरित्र निर्माण, समाज कल्याण और ज्ञान का उत्तरोत्तर विकास हेतु हरसंभव प्रयास करने में कार्यरत है। आज आवश्यकता है कि हम सभी अनुशासन में रहकर शारीरिक दूरी के महत्व को समझें और एकजुट होकर इस महामारी से लड़ने के लिए संकल्पबद्ध हों।

#manthansvk

#djjseducation  

#djjs

#saaksharbharat

#sashaktbharat

Subscribe Newsletter

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox