किला फतह करने के सूत्र!

आइए, आज हम कुछ ऐसे प्रेरक सूत्रों को जाने, जिनसे हम अपने जीवन को सुखमय और सफल बना सकतेहैं।

अपना किला तय करें

जब कोई अनेक मुश्किलों को पार कर सफल होता है, तो अक्सरां यह कहा जाता है- 'वाह! इस व्यक्ति ने तो किला फतह कर लिया।' हम सब भी इस मुहावरे को अपने लिए सुनने की आशा में अथक प्रयास करते हैं। दिन-रात भागते-दौड़ते हैं। पर अफसोस! यह सुनने को हमारे कान तरसते ही रह जाते हैं। जानते हैं क्यों?

इसका उत्तर पाने के लिए चलते हैं, लाइफ शो में- 'कौन बनेगा सफल व्यक्ति?' कम्प्यूटर जी, प्रतियोगी को पहला प्रश्न उसकी लाइफ स्क्रीन पर दिखाएँ। प्रश्न है- 'अगर हर किले पर चढ़ने का प्रयास कर रहे हैं, तो इस कोशिश में सबसे ज़्यादा ज़रूरी वस्तु क्या होगी?' आपके विकल्प हैं- 

1. परिस्थितियों की अनुकूलता

2. तैयारी

3. उपकरण

4. कुछ और (उस 'कुछ और' का नाम बताएँ)

अगर आपका उत्तर 1,2 या 3 में से एक है, तो आपका जवाब गलत है। सही चुनाव है- 4... पर 'कुछ और' में क्या? क्योंकि निःसंदेह सफल होने के लिए तैयारी, उपकरण और स्थिति की अनुकूलता महत्त्वपूर्ण होती है। पर इन सबसे पहले एक किला चाहिए, जिसे हम फतह कर सकें। कहने का तात्पर्य यह है कि बिना लक्ष्य के हम किसे भेदेंगे?

आज के युग में लोगों की हार का मुख्य कारण है- लक्ष्य विहीन होना। अकसर 12वीं के विद्यार्थियों को यह नहीं पता होता कि उन्हें अच्छे अंक लेकर जीवन में आगे करना क्या है। दिन-रात भागते एक कॉरपोरेट कर्मचारी को, जो 40 की उम्र भी पार कर चुका है, यह नहीं ज्ञात होता कि उसकी दौड़ की फिनिश लाइन (समापन रेखा) क्या है और कहाँ है? आपको यह जानकर हैरानी होगी कि एक रिसर्च के अनुसार लगभग 84% अमेरिकन लोगों के पास उनका अपना सफलता का किला ही नहीं है। इस संदर्भ में हम आपको लेकर चलते हैं, हार्वर्ड बिज़नेस स्कूल के छात्रों के पास। सालों पूर्व उनसे पूछा गया- 'क्या आपके पता है, आपका लक्ष्य क्या है?' रिसर्च बताती है कि लगभग 3% छात्र ही लिख पाए कि वे जीवन में क्या करना चाहते हैं। अब समय की घड़ी को 10 साल आगे करते हैं और उनके जीवन पर नज़र डालते हैं जो अपना लक्ष्य बता पाए थे। आँकड़े बताते हैं कि उनमें से लगभग सभी बड़ी सम्पत्ति के मालिक थे। हार्वर्ड के इस बैच के लोगों पर की गई रिसर्च से सीखे गए सूत्रों को आर्टी बुअर्क (हार्वर्ड के सचिव) ने एक किताब 'If I knew then' में अंकित किया। जैसे कि-

1. आप अपने लक्ष्य का चुनाव करें और फिर उसे अच्छी योजना एवं चरणबद्ध तरीके से हासिल करें।

2. अपनी रुचियों, प्राथमिकताओं और जुनून को पहचानें और फिर उसे पूर्ण एकाग्रता के साथ साधें।

इसलिए पाठकगणों, किला फतह करना महत्त्वपूर्ण है। पर सबसे पहले यह जानना ज़रूरी है कि वह किला कौन सा है? जानने के लिए पढ़िए फरवरी'18 माह की हिन्दी अखण्ड ज्ञान मासिक पत्रिका।

Need to read such articles? Subscribe Today