ध्यान=ध्याता+ध्येय (भाग-1/2)

दौड़-भाग, आपाधापी से पूर्ण ज़िन्दगी! हर पल में प्रतिस्पर्धा और प्रतियोगिता! जीवन के हर पक्ष में गति! कर्म में गति! मन के विचारों में गति! जीवन की इस गति के पीछे कोई तो ऐसी स्थिर सत्ता होनी चाहिए, जो हमारे अस्तित्व का आधार भी हो

Read More
श्री गुरु नानक देव जी एक युगान्तरकारी महापुरुष

श्री गुरु नानक देव जी युगान्तरकारी महापुरुष थे। उन्होंने अपने जीवनकाल में घूम-घूमकर चतुर्दिक उदासियाँ लीं। इनके अन्तर्गत उन्होंने तत्समय प्रचलित रूढ़ियों, हठधर्मिता और दुराग्रहों पर प्रभावशाली प्रहार किया। सम्पूर्ण देश में एक अद्वितीय क्रान्ति की दुंदुभि बजा दी। युद्धजन्य या रक्तरंजित क्रान्ति की नहीं। पूर्णतया श्वेत और अहिंसामय क्रान्ति की।

Read More
खेत नहीं, चिताएँ जल रही हैं!

वर्तमान में दिल्ली और उसके सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले निवासी खुलकर सांस लेने के लिए तरस रहे हैं। इसका एक मुख्य कारण जो उभरकर आया है, वह है खेतों में पराली का अग्नि दहन होना। आज से लगभग दो दशक पूर्व ही गुरुदेव श्री आशुतोष महाराज जी के त्रिकालदर्शी नेत्रों ने इस भावी समस्या को देख लिया था, इसीलिए श्री महाराज जी के मार्गदर्शन में पराली जलाने के विरुद्ध एक सक्रिय अभियान दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान सदा से चलाता रहा है।

Read More
Money vs. Character

The success that rests on the foundation of character provides the real joy, which one can rejoice and fill his being with to the fullest satisfaction.

Read More
राम राज्य साकार हो उठे

इस दीपावली अपने भीतर के अंधकार को मिटाकर आत्मज्ञान प्राप्त कर अन्तःकरण में प्रकाश स्वरूप से दिव्य दीपावली उत्सव अवश्य मनाए। और फिर देखें कैसे समाज में सकारात्मक परिवर्तन आता है।

Read More
धनतेरस के पीछे छिपे आध्यात्मिक रहस्यों को जाने

कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस मनाया जाता है। समुंद्र मंथन की पौराणिक कथा के अनुसार इसी दिन भगवान धन्वंतरी अमृत कलश लेकर समुंद्र से बाहर प्रकट हुए थे।

Read More
पुरातन और वैदिक काल की अद्भुत शिल्पकला

हमारे वैदिककालीन ऋषि-महर्षि पूर्ण वैज्ञानिक होते थे! वे सिर्फ भवन-निर्माण नहीं, 'जीवन-निर्माण' की कला भी जानते थे। केवल 'मकान' नहीं, सुखपूर्ण 'घर' बनाते थे।

Read More
शरद पूर्णिमा की रात्रि आध्यात्मिक उत्थान के लिए अति उत्तम

इस पर्व को सिर्फ पारिवारिक स्तर पर ही नहीं बल्कि जन-कल्याण हेतु कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएँ विशेष शिविरों का आयोजन करती हैं। इन शिविरों में प्रतिभागियों को चाँदनी में भीगी खीर के साथ आयुर्वेदिक दवाइयों का सेवन कराया जाता है।

Read More