अपने लिए जीए, तो क्या जीए?

अनुजा- उठो अमित! जल्दी करो! ८.०० बज गए हैं। ऑफिस नहीं जाना क्या?

अमित- उफ! आज बिल्कुल मन नहीं कर रहा। सारा शरीर टूट रहा है ...

अनुजा- अरे, तुम तो बिल्कुल रिया की तरह बहाने बना रहे हो। 

अमित- क्यों, हम पापा लोग नहीं थकते क्या?

अनुजा- और हम मम्मियों को क्या?...

अमित- अरे भई, आया कमला है तो...

अनुजा- आया आया ही होती है। ...

अमित (हँसते हुए)- मान लिया, श्रीमती जी! अब मेरे लिए क्या आज्ञा है?

अनुजा- फिलहाल तो यही कि आप जल्दी से तैयार होकर नाश्ते के लिए आ जाओ। आज रिया को भी स्कूल छोड़ते हुए जाना है।

अमित- ओ.के. मैडम! ...नाश्ते की टेबल पर...

...

रिया (इतराकर)- नहीं! मुझे नहीं पीना दूध। नहीं जाना स्कूल।

अनुजा- अरे, क्या हुआ मेरी प्यारी रिया को। ...

रिया- नहीं मॉम, आज मैं स्कूल नहीं जाऊँगी। आप और डैडी के साथ घूमने कहीं बाहर जाऊँगी।

अनुजा- बेटे, आज कैसे जा सकते हैं? आज तो हम दोनों का ऑफिस है और आपका भी स्कूल है।

रिया- नहीं, मुझे कुछ नहीं पता। ...

...

रिया- डैडी, मुझे कहीं बाहर जाकर घूमना है।

...

अमित (अनुजा को इशारा करते हुए)- बेटे रिया, पर आज नहीं। संडे को चलेंगे।

...

अनुजा (रिया को गोद में बिठाते हुए)- और आज हम ...लौटते हुए आपकी फेवरेट आइसक्रीम लेते आयेंगे।

...

शाम को ऑफिस से लौटते हुए...

अनुजा- अमित, क्या कर रहे हो? देखकर चलाओ न!

अमित- देखकर ही तो ब्रेक लगाई है। देखो सामने!

अनुजा- ओ माई गॉड! मिस्टर एण्ड मिसेज़ शाह के घर आग! ...

अमित- ...हमें जल्द ही इनकी मदद करनी चाहिए। ...

...

अनुजा- तुम और तुम्हारा सोशल वर्क। अभी कोई घर का काम कहूँगी, तो दिन भर की थकावट याद आ जाएगी।

क्या अमित ने फिर भी मिस्टर शाह का घर जलने से बचाया? क्या निर्णय लिया उन्होनें? जानने के लिए पढ़िये जनवरी अंक की हिन्दी अखण्ड ज्ञान मासिक पत्रिका...

Need to read such articles? Subscribe Today