Read in English

पायलट स्तर का हस्तक्षेप

“एक पैसा आपको एक बहुत ही तुच्छ बात लग सकती है लेकिन यह छोटा सा बीज आपके भविष्य में वसंत ला सकता है।”

ओरीसन स्वेट मार्डेन का एक उद्धरण हर व्यक्ति के लिए वित्तीय साक्षरता के महत्व को बताता है। वित्तीय स्वतंत्रता और आर्थिक स्थिरता कैदियों के बेरोजगार होने के कारण उनके पुनर्वसन के लिए एक बड़ी चुनौती है। इससे भी बड़ी बात यह है कि कैदियों के पास इतनी भी शिक्षा नहीं है कि वे जेल में काम करते समय जो पैसा कमाते हैं उसे निवेश करें। इसलिए, उनकी रिहाई के बाद भी उनके लिए प्रमुख चिंता लोगों की आजीविका अर्जित करने में सक्षम होना, बचत करना और वित्तीय रूप से स्थिर होना है।

इस विचार को ध्यान में रखते हुए, दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के अन्तरक्रांति कार्यक्रम ने महिला कारागार, तिहार में स्पिरिट वेल्फ़ेर ऑर्गनायज़ेशन के सहयोग से  साक्षरता और उद्यमी कौशल पर पायलट स्तर के हस्तक्षेप का आयोजन किया।स्पिरिट संस्थान से मिस श्वेता कामा, साक्षरता और उद्यमिता कौशल का प्रशिक्षण देने में विशेषज्ञ, ने  चार दिवसीय कार्यशाला का आयोजन 13 से 16 जनवरी 2020 तक केंद्रीय जेल नंबर 6 में किया।

अपने भविष्य को आर्थिक रूप से सुरक्षित बनाने के लिए छोटी और निरंतर बचत करने के बारे में कैदियों को कार्यशाला में शिक्षित किया गया। कार्यशाला ने उन्हें विभिन्न तरीकों और योजनाओं का ज्ञान प्रदान किया जो उन्हें अपने संसाधनों की रक्षा करने में मदद करेंगे। बैंकिंग, खाते, सावधि जमा, आवर्ती जमा, पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि योजना, आदि के बारे में जानकारी प्रदान की गई। वे विभिन्न सरकारी योजनाओं के बारे में जागरूक हुए, जिनमें वे अपनी महत्वपूर्ण आय अर्जित करने के लिए एक महत्वपूर्ण परिणाम कमा सकते हैं और भविष्य में अपने बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य आवश्यकताओं को सुरक्षित कर सकते हैं।

वित्तीय साक्षरता के अलावा, ट्रेनर ने उद्यमिता कौशल के बारे में भी जानकारी दी। महिला कैदियों की रुचियों और प्रतिभाओं की खोज इंटरेक्टिव सत्रों के माध्यम से की गई, जिससे उनमें विश्वास की भावना का निर्माण हुआ कि वे सही समर्थन और मार्गदर्शन के साथ अपने जीवन यापन के लिए कुछ करने में सक्षम हैं। कार्यशाला सफल हुई एव बंदियों के लिए वित्तीय साक्षरता को कैसे आगे बढ़ाया जा सकता है, इस पर भी विचार किया गया। वित्तीय साक्षरता क़ैदीयों की पुनरावृत्ति दर को कम करने के लिए मददगार होगी जिसमें गरीबी और बेरोजगारी प्रमुख कारणों में से एक है।

चार दिवसीय कार्यशाला का समापन करते हुए, अन्तरक्रांति का मानना ​​है कि वित्तीय साक्षरता निश्चित रूप से जेल के कैदियों के लिए अपनी जमा पूँजी को निवेश करने, बीमा कराने के लिए महत्तवपूर्ण साबित होगी जिससे उनको एक सुरक्षित भविष्य मिल पाएगा एवं  पुनरावृत्ति दर कम होगी।

Financial Literacy & Entrepreneurial Skills for Women Prisoners

Financial Literacy & Entrepreneurial Skills for Women Prisoners

Subscribe Newsletter

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox