Read in English

12 मार्च को DJJS के पंजाब स्थित नूरमहल आश्रम में मासिक सत्संग भंडारा कार्यक्रम किया गया| ब्रह्मज्ञानी वेद-पाठियों द्वारा दिव्य मंत्रोचारण से कार्यक्रम की शुरुआत हुई| दिव्य भजन प्रवाह और सत्संग विचारों से आध्यात्मिक तरंगों का चारों ओर प्रसार किया गया| स्वामी आदित्यानंद जी व स्वामी ज्ञानेशानंद जी ने अपने ओजस्वी विचारों में होली के पर्व का महत्व बतलाया| उन्होंने कहा कि जिस प्रकार भक्त प्रहलाद ने परम सत्य ईश्वर के लिए अपने ही पिता से संघर्ष किया| लेकिन कभी भी सत्य का त्याग नहीं किया| मीरा सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ सत्य की एक प्रचण्ड आंधी बनकर उभरी लेकिन कोई भी परिस्थिति उसे कभी डिगा न पाई| ऐसे ही सत्य पथ के अनुगामी भी सत्य के मार्ग पर सदा डटे ही रहते हैं| विकट परिस्थितियाँ भक्त की परख करने आती है पर अपने अडिग विश्वास और दृढ़ता के बल पर वह हर परिस्थिति में निखरकर व जीत हासिल कर ही बाहर निकलता है| उन्होंने आगे कहा कि गुरु-शिष्य संबंध में भी इसी दृढ़ विश्वास की ज़रूरत होती है| साधना, सुमिरन, सेवा और सत्संग इन चारों आज्ञाओं पर दृढ़ता से चलने वाला साधक सत्य पथ से कभी विचलित नहीं होता| होली पर्व के महत्व को प्रस्तुत करते हुए उन्होंने बताया कि होलिका दहन जहाँ कुरीतियों के नाश का प्रतीक है तो वहीं रंगोत्सव- ‘होली’ शाश्वत प्रेम व भक्ति के रंगों में सराबोर हो जाने का संदेश लेकर आता है| कार्यक्रम में बड़ी तादात में उपस्थित गुरु भक्त इन विचारों से सहमत व गुरु भक्ति में डूबे नजर आए| सभी ने कटिबद्ध हो सत्य मार्ग पर चलने का संकल्प भी धारण किया| कई गणमान्य अतिथि भी कार्यक्रम में प्रस्तुत हुए| होली के पावन पर्व पर सामूहिक ध्यान कर भक्तों ने विश्व में प्रेम, सौहाद्र, एकता व भाईचारे की मंगल कामना भी की| सामूहिक भोज से भी भाईचारे का प्रसार हुआ| अंत में, उपस्थित सभी भक्त आनंदित व उत्साहित नजर आए।

Monthly Congregation Replenished the Hearts of Devotees with Divine Love of Satguru and Lifted their Spirits on the Path of Bhakti and Sewa

Monthly Congregation Replenished the Hearts of Devotees with Divine Love of Satguru and Lifted their Spirits on the Path of Bhakti and Sewa

Subscribe Newsletter

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox