स्वास्थ्यवर्धक रेनकोट

ठक्-ठक्...चिलचिलाती ग्रीष्म ऋतु से राहत देने, मै सुहावनी वर्षा ऋतु आपके घर की चौखट पर दस्तक दे चुकी है। टिप-टिप करती मेरी बूँदे वनस्पति व आपको राहत पहुँचा रही हैं। पर अफसोस! आज मेरी रिमझिम बरसती 
बूँदों में आनंद देने की उतनी शक्ति नहीं रही, जितनी पहले होती थी। कारण कि दूषित पर्यावरण की वजह से आज मेरे साथ आते हैं, कई  संक्रमण और बीमारियाँ! पर इस बार बारिश में आप लोगों का स्वास्थ्य खराब न हो, इसलिए मैं चाहती हूँ कि आप मेरे आते ही ये स्वास्थ्य-रक्षक  रेनकोट ज़रूर पहन लें।

आँखों का रेनकोट

बरसात के मौसम में आँखों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इस समय प्रकृति में तरह-तरह के वायरल संक्रमण फैल जाते हैं। आँखों पर कंजक्टिवाइटिस के हमले का सबसे ज़्यादा खतरा बन जाता है। इन खतरों से बचने के लिए आँखों के इन रेनकोटों को पहनें-

  1. आँखों पर हाथ लगाने से पहले हाथों को साबुन से अच्छे से धोएँ।
  2. घर में यदि किसी को आई-फ्लू हुआ है, तो
    उसकी आँखों में दवाई डालने के बाद अपने हाथ साबुन से धोएँ।
  3. आँखों को बार-बार मसले नहीं।...
  4.  बरसात के मौसम में कोशिश करें कि आँखों का मेकअप न करें।... लैंस की जगह चश्मा पहनें।
  5.  आँखों को साफ करने के लिए छोटा मुल्यम कपड़ा पास रखें। यह कपड़ा दूसरों के साथ सांझा न करें।
  6.  बारिश में भीगने पर, कोशिश करें की आँखों में बारिश का पानी न जाए।
  7.  डाॉक्टर की सलाह लिए बिना कोई भी एलोपैथी का आई-ड्राप आँखों में न डालें।
  8.  जब भी बाहर जाएँ , तो अपनी संक्रमित आँखों को गहरू रंग के चश्में से ढक ले।
  9.  इन्फैक्शन की स्थिति में, आँखों पर पट्टी न बाँधें। पट्टी बाँधने से आँखों से निकलते पानी को  निकास नही मिलता, जिससे इन्फैक्शन बढ़ जाता है।
  10. हर एक घन्टे बाद आँखों पर ठन्डे पानी के छींटे डालें।
    इसके साथ-साथ आँखों के इन्फैक्शन को दूर करने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे, कवक संक्रमण और आमाशय हेतु रेनकोट और उनसे सम्बन्धित घरेलू नुस्खे जानने के लिए पढिए अगस्त माह'१५ की हिन्दी अखण्ड ज्ञान मासिक पत्रिका।
Need to read such articles? Subscribe Today