भक्तिपूर्ण संगीत कार्यक्रम ने सरहिंद, पंजाब में आंतरिक जागृति के बीज आरोपित किए।

SEE MORE PHOTOS
DJJS News

Read in English

लक्ष्य प्राप्ति हेतु एकाग्रता की नितांत आवश्यकता है। भक्ति में वह शक्ति निहित है जो हमें लक्ष्य के प्रति उन्मुख रखती है और समस्याओं में संघर्ष करने का साहस देती है। जैसा कि एक दार्शनिक ने कहा है- "विश्वास, अनुशासन और कर्तव्य के प्रति निःस्वार्थ समर्पण द्वारा किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति सम्भव है।"

भक्तों में विशुद्ध भक्ति का आरोपण करने के लिए, दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा 16 दिसंबर 2018 को पंजाब के सरहिंद में भक्ति संगीत कार्यक्रम का आयोजन किया। यह कार्यक्रम "भज गोविंदम" विषय पर आधारित था। भारतीय शास्त्र ग्रंथ पवित्र व निःस्वार्थ मन द्वारा विशुद्ध मंत्र उच्चारण महत्व के बारे में बताते हैं। चूंकि यह हमारे मन और विचारों को शुद्ध व सकारात्मक करते हुए, हमारे भीतर दिव्यता का संचार करते हैं इसलिए ईश्वर के नाम का स्मरण हमारे जीवन को बदलने हेतु एक शक्तिशाली उपकरण है।  
 
अनेक बुद्धिजीवियों व शिष्यों ने इस आयोजन में अपनी उपस्थिति दर्ज की। कार्यक्रम का शुभारम्भ भगवान श्री कृष्ण के चरण कमलों में प्रार्थना से हुआ। श्री कृष्ण, भगवान विष्णु के रसावतार है जो भक्तों के हृदयों में प्रेम रस का संचार करने वाले है। सुमधुर भक्ति रचनाओं की श्रृंखला ने दर्शकों को अभिभूत कर दिया। हृदयस्पर्शी धुनों व प्रेरणादायक रचनाओं ने वातावरण में दिव्यता का संचार करते हुए उपस्थित भक्तों के विचारों की दिशा को सफलतापूर्वक परिवर्तित किया।

सर्व श्री आशुतोष महाराज जी की शिष्या साध्वी रुपेश्वरी भारती जी ने कार्यक्रम में अपने विचारों द्वारा आध्यात्मिक यात्रा हेतु बहुमूल्य तथ्यों को प्रगट करते हुए, मुक्ति की अभिलाषा में तीव्रता हेतु “भज गोविन्दम” रचना के महत्व को प्रगट किया। साध्वी जी द्वारा प्रदत्त विचारों ने दिव्य पथ के अनुभवों और ब्रह्मज्ञान प्राप्ति के महत्व से अवगत करवाया।

साधकों, अतिथियों, स्वयंसेवकों और प्रचारकों ने दिव्यता की छत्रछाया में श्री कृष्ण नाम का गुणगान व रसपान करते हुए ईश्वर प्रति अपनी कृतज्ञता को प्रगट किया। कार्यक्रम के माध्यम से भक्तों ने आंतरिक जाग्रति की ओर उन्मुख होने की प्रेरणा को प्राप्त किया।  

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान, सर्व श्री आशुतोष महाराज जी द्वारा संचालित व स्थापित एक गैर-सरकारी, गैर-लाभकारी और प्रमुख सामाजिक-आध्यात्मिक संस्थान है।
 

Subscribe below to receive our News & Events each month in your inbox

Related News: